अरुण जेटली के झूठ और ढोंग के बारे में जाने

बीजेपी के नेता जुमलेबाजी एक्सपर्ट हैं ये मुझे बताने की जरूरत नहीं है।  फिर भी इनके झूठों  को गिनाने में पता नहीं क्यों मजा आता है।  अब श्रीमान अरुण जेटली को ही लीजिये अप्रैल २०१४ में इन्होंने वक्तव्य दिया था की बढ़ती महंगाई में इनकम टैक्स स्लैब को २ लाख रुपये से बढ़ा कर ५ लाख रुपये किया जाना चाहिए।  संयोग से इनकी पार्टी सत्ता में आयी और इससे भी बड़ा संयोग ये हुआ की चुनाव हारने और ख़राब स्वस्थ्य होने के बावजूद इन्हें प्रधानमंत्री जी के  नजदीकी होने का भरपूर फायदा मिला और ये वित्त मंत्री बन गए।  अब सवाल है की अब तक इन्होंने UPA  सरकार से जो मांग की थी वो स्वयं वित्त मंत्री बनने के बाद पूरा क्यों नहीं किया।

arun jaitely budget 2017उस वक्त अरुण जेटली का कहना था की सरकार अगर इनकम टैक्स की लिमिट को बढ़ाती है तो ३ करोड़ लोगों को फायदा होगा।  वैसे अभी जो आपने नोटबंदी की उससे शीर्ष १ करोड़ पूंजीपतियों को छोड़कर बाकी सभी लोगों को कष्ट ही हुआ है।  लगता है जेटली जी सरकार को बनिए के गल्ले की तरह चलना चाहते हैं और जन कल्याण की बातें तभी याद आती हैं जब उन्हें विपक्ष में बैठना पड़ता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *